The True Job Alerts And Educational News

Sarkari Yojana

Wednesday, March 24, 2021

रीट परीक्षा स्थगित नई परीक्षा तिथि 20 जून

 


REET 2021 : रीट परीक्षा स्थगित नई परीक्षा तिथि 20 जून


राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने रविवार 25 अप्रेल को होने वाली राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा ( REET ) स्थगित की जाती है । यह परीक्षा माननीय मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा बजट सत्र में विधानसभा में की गई घोषणा की क्रियान्वति हेतु आर्थिक रूप से कमजोर ( Ews ) वर्ग के अभ्यार्थियों को अवसर दिये जाने के कारण स्थगित की गई है । राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष और रीट के मुख्य समन्वयक प्रो . ( डॉ . ) डी . पी . जारोली ने शनिवार को बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार बोर्ड शीघ्र ही आर्थिक रूप से कमजोर ( Ews ) वर्ग के अभ्यार्थियों को रीट परीक्षा के लिये आवेदन करने का मौका देगा । इसकी तिथियों की घोषणा शीघ्र की जायेगी । राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा ( REET ) 20 जून ( रविवार ) को होगी । 





आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से जैन समाज रीट परीक्षा तिथि पर आपत्ति जता रहा है। जैन संगठन का कहना है कि इस दिन परीक्षा होगी तो वे परीक्षा के केंद्र के लिए अपने स्कूल नहीं देंगे। राज्य में कई स्कूल चलाए जा रहे हैं। इन लोगों ने शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भी दिया लेकिन कोई निर्णय नहीं हुआ। 

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (आरबीएसई) के अध्यक्ष डॉ डीपी जरोली ने साफ कह दिया है कि रीट 2021 परीक्षा अपने तय समय 25 अप्रैल 2021 पर ही होगी। अभ्यर्थी किसी भी भ्रम की स्थिति में न रहें।


"EWS के कारण 25 अप्रैल को रीट नहीं होगी । रीट की नई परीक्षा तिथि को लेकर आज या कल तक फैसला हो जाएगा मुख्यमंत्री जी जल्द करेंगे रीट परीक्षा तिथि की घोषणा । रीट लाखों बेरोजगारों के सपनों की आस है सरकार बेरोजगारों के सपनों के साथ खिलवाड़ ना करें ।"



जरोली की ओर से कहा गया है कि 25 अप्रैल के अलावा कोई भी रविवार परीक्षा के लिए खाली नहीं है। सभी रविवार में किसी न किसी एजेंसी की परीक्षा निर्धारित है। ऐसे में रीट 2021 का आयोजन 25 अप्रैल 2021 को ही किया जाएगा। बोर्ड ने कोर्ट के आदेश के बाद पर लेवल वन के लिए भराए गए आवेदन की आखिरी तारीख 20 फरवरी तय की थी। इस परीक्षा के लिए अब तक 16.5 लाख से अधिक उम्मीदवार आवेदन कर चुके हैं। रीट के जरिए राज्य में 31000 शिक्षकों की भर्ती होनी है।

जानें रीट से जुड़े बदलावों के बारे में 
- बीएसटीसी वाले ही शामिल होंगे। बीएड वाले शामिल नहीं। क्योंकि बीएड वालों को लेवल-1 का शिक्षक बनने के बाद 6 माह का ब्रिज कोर्स करना होता है। प्रदेश में इसकी कोई संस्था नहीं।
- पहले रीट के लिए स्नातक में 50% अंकों के साथ बीएड जरूरी था। अब बीएड के साथ स्नातक या पीजी में किसी भी एक में 50% अंक होने चाहिए। 
- पहले भर्ती की मेरिट में लेवल-2 में रीट-आरटेट में अंकों का 70% व स्नातक के अंकों का 30% वेटेज जोड़कर मेरिट बनाई जाती थी। अब शिक्षक भर्ती में लेवल-2 में रीट-आरटेट के अंकों का 90% व स्नातक के अंकों का 10% वेटेज जोड़कर मेरिट बनाई जाएगी।
- पहले रीट में राजस्थान के जीके को प्राथमिकता नहीं थी। एनसीटीई के सिलेबस के आधार पर ही रीट का सिलेबस तय था। अब रीट में प्रदेश की भौगोलिक स्थिति, कला संस्कृति, इतिहास से जुड़े सवाल होंगे। 
- कॉमर्स स्ट्रीम से बीए करने वाले भी रीट दे सकेंगे। इन्हें रीट लेवल-2 में सोशल स्टडीज विषय में शामिल किया जाएगा।

 पात्रता अंकों में 5 से 20 फीसदी तक की छूट
रीट में कई वर्गों को पात्रता अंकों में छूट दी गई है। आदेश के मुताबिक रीट आरक्षित वर्गों को पात्रता अंकों में 5 फीसदी से लेकर 20 फीसदी अंकों तक की रियायत मिलेगी। रीट में विभिन्न श्रेणियों के लिए न्यूनतम उत्तीर्णांक इस प्रकार निर्धारित किए गए हैं।
सामान्य / अनारक्षित - 60 अंक (टीएसपी व नॉन टीएसपी)
अनुसूचित जनजाति (ST) - 55 (नॉन टीएसपी), 36 (टीएसपी)
अनुसूचित जाति (SC), ओबीसी, एमबीसी व आर्थिक कमजोर वर्ग - 55 अंक (नॉन टीएसपी व टीएसपी)
समस्त श्रेणी की विधवा और परित्यक्ता महिलाएं एवं भूतपूर्व सैनिक - 50 अंक (टीएसपी व नॉन टीएसपी)
दिव्यांग - 40 अंक (टीएसपी व नॉन टीएसपी)
सहरिया जनजाति - 36 अंक (टीएसपी व नॉन टीएसपी)

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा ( REET ) 25 अप्रैल को ही होगी । राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ . डी.पी. जारोली ने यह स्पष्ट कर दिया है । उन्होंने कहा कि 25 अप्रैल को तय कार्यक्रम पर ही रीट का आयोजन होगा । क्योंकि , इससे पहले और बाद में कोई भी रविवार परीक्षा के लिए खाली नहीं है । हर रविवार को विभिन्न भर्ती की एजेंसियों की परीक्षाएं हैं । वहीं , मई में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की मुख्य परीक्षाएं आयोजित होंगी । जबकि जून में भी रीट के लिए कोई रविवार खाली नजर नहीं आ रहा है । ऐसे में बोर्ड के पास रीट का आयोजन 25 अप्रैल को कराने के अलावा कोई विकल्प नहीं है । उन्होंने बताया कि रीट के लिए परीक्षा केंद्र लगभग फाइनल हो चुके हैं । डॉ . जारोली ने अभ्यर्थियों से परीक्षा की तैयारी करने के लिए कहा है । रीट परीक्षा में 16 लाख 40 हजार 319 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है ।


प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से आगामी 25 अप्रैल को आयोजित होने जा रही REET परीक्षा की डेट बदलने की मांग उठ रही है। सूबे के अलग-अलग संस्थानों के द्वारा उठ रही इस मांग को अब राज्य की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का अभी समर्थन मिल गया है। बता दें कि, छात्रों के एक गुट ने बुधवार को राजे से मुलाकात की थी। इसके बाद वसुंधरा राजे ने ट्विटर पर ट्वीट कर संबंधित विभाग से अनुरोध किया है कि छात्रों की इस मांग को सुनकर तत्काल समाधान करें।


आपको बता दें कि, राजस्थान माध्यमिक बोर्ड की तरफ से आयोजित की जा रही REET की परीक्षा के लिए 25 अप्रैल की तिथि प्रस्तावित है। लेकिन इसी दिन महावीर जयन्ती भी पड़ रही है। ऐसे में जैन समाज से जुड़े संगठनों ने कहा कि उनके समुदाय से जुड़े अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएँगे। ऐसे में उनकी मांग है कि परीक्षा की डेट को बदला जाए। 


इसी कड़ी में पूर्व सीएम वसुंधरा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, "#REET_2021 की तारीख को लेकर कुछ छात्रों ने मुझसे संपर्क किया था। यह परीक्षा महावीर जयंती के दिन आयोजित की जा रही है, जिससे कुछ अभ्यर्थियों को पर्व मनाने से वंचित रहना पड़ेगा। सम्बंधित विभाग से मेरा अनुरोध है कि छात्रों की इस मांग को सुनकर तत्काल समाधान की कार्रवाई करें।" REET परीक्षा के लिए इस बार फरवरी में ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे, जिसके तहत पूरे प्रदेश से कुल 16 लाख 40 हजार 319 अभ्यर्थियों ने आवेदन किए हैं। रीट के लिए परीक्षा 25 अप्रैल को दो चरणों में प्रस्तावित की गई है।



राजस्थान  में अजमेर नगर निगम के उपमहापौर नीरज जैन ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर रीट परीक्षा महावीर जयंती 25 अप्रैल  को आयोजित नहीं करने की मांग की है। जैन ने अपने पत्र में कहा कि रीट की परीक्षा महावीर  जयंती के बजाए किसी और दिन करवाकर जैन समाज के अभ्यर्थियों को राहत प्रदान  करें। उन्होंने कहा कि महावीर जयंती के दिन रीट परीक्षा  आयोजन की घोषणा से जैन समाज के लिए धर्म संकट खड़ा हो गया है जिसके चलते जैन  समाज के बेरोजगार युवाओं के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।  



उन्होंने पत्र में  लिखा है कि जैन समाज के सबसे बड़े धार्मिक पर्व महावीर जयंती पर आज तक कभी  कोई परीक्षा आयोजित नहीं की गई लेकिन यह पहला मौका है कि जब महावीर जयंती  के दिन परीक्षा आयोजित की जा रही है।
       

उन्होंने मुख्यमंत्री के अलावा नेता  प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा, स्वायत्त  शासन मंत्रालय शांति धारीवाल, बोर्ड के अध्यक्ष को भी पत्र लिखकर जैन समाज  की मांग पर विचार कर राहत दिए जाने की मांग की है। उल्लेखनीय  है कि अजमेर मुख्यालय स्थित माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. डीपी  जारोली पहले ही ये बात कह चुके हैं कि भगवान महावीर त्याग की मूर्ति है।  तिथि परिवर्तन की मांग करने वाले प्रदेश के बेरोजगारों के साथ त्याग की  भावना रखते हुए परीक्षा निर्धारित तिथि 25 अप्रैल को ही आयोजित होने दें।

 


Full Width(True/False)