The True Job Alerts And Educational News

Thursday, October 22, 2020

स्कूल व्याख्याता की 12,000 पोस्ट्स समेत माध्यमिक शिक्षा में कुल 62 हजार पद खाली, अक्टूबर महीने की रिपोर्ट जारी



माध्यमिक शिक्षा विभाग में 62 हजार पद खाली पड़े हैं

शिक्षा विभाग ने जारी की अक्टूबर की रिपोर्ट, विभाग में खाली पदों की स्थिति चौंकाने वाली

माध्यमिक शिक्षा विभाग ने अक्टूबर महीने की रिपोर्ट जारी की है। इसके अनुसार माध्यमिक शिक्षा विभाग में 62 हजार पद खाली पड़े हैं। इसमें सबसे अधिक पद स्कूल व्याख्याता के हैं। व्याख्याताओं के 12 हजार पद खाली हैं। सरकार ने व्याख्याताओं के 3 हजार पदों पर भर्ती के लिए पिछले दिसंबर में घोषणा की थी। लेकिन अभी तक इसकी प्रक्रिया शुरू नहीं हुई है।


वरिष्ठ अध्यापक के भी 9 हजार और ग्रेड 3 शिक्षकों के 11 हजार पद खाली हैं। पिछले तीन महीनों की रिपोर्ट की तुलना की जाए तो खाली पदों की कुल संख्या कम हुई है। इसका कारण वरिष्ठ अध्यापकों की नियुक्ति है। अगस्त 2020 में जारी रिपोर्ट में वरिष्ठ अध्यापकों के खाली पदों की संख्या 12,818 थी। जो अब घटकर 9 हजार पर आ गई है। विभाग ने पिछले दिनों आरपीएससी से हुई वरिष्ठ अध्यापक भर्ती के चयनितों को पोस्टिंग दी थी। स्कूल व्याख्याता, ग्रेड 3 शिक्षक सहित अन्य पदों में खाली पदों की संख्या बढ़ी है।


नई भर्ती शुरू होने का इंतजार

स्कूल व्याख्याता भर्ती 2018 की प्रक्रिया चल रही है। अभी इसमें नियुक्ति होनी है। यह भर्ती 5 हजार पदों पर हुई थी। नियुक्ति के बाद खाली पदों की संख्या घटकर 7 हजार रह जाएगी। सरकार को अभी 3 हजार पदों पर व्याख्याताओं की भर्ती भी करनी है। लेकिन इसकी प्रोसेस तभी शुरू होगी, जब दो साल पहले निकाली गई 5 हजार पदों की भर्ती में नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू होगी।



शिक्षा विभाग में शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक पद बड़ी संख्या में खाली हैं। शिक्षकों की भर्ती के साथ गैर शैक्षणिक पद भी भरने चाहिए। गैर शैक्षणिक स्टाफ की कमी से कार्यालयों में एक कर्मचारी पर काम का भार रहता है। - मुकेश हाटवाल, अतिरिक्त महामंत्री, राजस्थान शिक्षक संघ



सरकार ने पिछले साल 3 हजार पदों पर व्याख्याता भर्ती का ऐलान किया था। परीक्षा सितंबर में प्रस्तावित थी। लेकिन सितंबर तक तो पिछली व्याख्याता भर्ती की प्रक्रिया ही पूरी नहीं हुई। सरकार को चाहिए कि पिछली भर्ती को जल्दी पूरा करके नई भर्ती निकाले। ताकि बेरोजगारों को राहत मिल सके। - उपेन यादव, संयोजक, राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ